Sunday, December 23, 2012

आज फिर



आज फिर
पहाड़ों पर हुयी होगी सांझ,
लेकिन नहीं था मैं वहां !
सांझ हर एक ,हर एक रात
सदियों का एक, एक कदम !! !

आज फिर
गहरी काही सिलवटों में उलझी
पहाड़ॊं की तलहटी में
नीली धुन्ध के फाहों की पांख लिये
बूढ़े अपरान्ह के उदास पीले परिन्दे उतरे होगें
और रात को जन्म देकर
गर्भवती सांझ सदा के लिये
आसमान से झालर की तरह लटकती
इन सारामती की चोटियों पर
कहीं सो गयी होगी !
इस तरह सदियों ने
एक कदम और चल लिया होगा !
लेकिन नहीं था मैं वहां !

हर सांझ,
शायद एक पुष्प !
और समय ,
जो इन इतिहास चबाती विशद पहाड़ियों पर
अनन्त काल से बीत रहा है
अनन्त काल तक बीतता रहेगा,
एक वृक्ष !!  !
हर रोज दिन ढले
पहाड़ियों पर आच्छन्न
समय के इस वृक्ष पर
सांझ का फूल खिलता है !
सूरज के कटोरे में
लाल केसरिया कत्थयी आदि
कई विचित्र अवर्णनीय रंग घोल
कभी स्निग्ध नीले आसमान की पंखुड़ी पर
तो कभी आक्षितिज निर्लेप विस्तृत  
समुद्री हरे रंग के सन्नाटे का बूटा जड़ी
किसी अज्ञात  प्रिय को समर्पित-सी बिछी
जंगल की दरी पर
फेंका जाता है  !
आधी हरी आधी नीली
वो चटकार जंगली चिड़िया
जिसका नाम मैं नहीं जानता
मेरी बालकनी के सामने वाले
पाईन की फुनगी पर बैठ
दूर तलक 
अपनी रस्सी जैसी बिखरने वाली हूंक से
फेकें गये रगों को 
यहां वहां सजाती है !

इस तरह 
सांझ का फूल खिलता है
रात को जन्म दे झर जाता है  !
सदियां एक कदम और चल लेती हैं
समय का वृक्ष 
थोड़ा और बड़ा हो जाता है !
लेकिन आज जब यह सब हुआ  
नहीं था मैं वहां !

Saturday, December 22, 2012

काल-पुरुष मौन होगा !


त्रास !

..............

मूल्य , अस्मिता और संवेदनायें

वर्षों पहले पुते चूने की पपड़ी-से
झरते दिखते होंगे तुम्हे

हास्पीटल के उस कमरे में

जहां तुम्हारी क्लान्त आत्मा

अपनी क्षत-विक्षत देह की गुदड़ी

लपेटे

समय के वेन्टिलेटर पर पड़ी होगी !

 

तुम्हारी भीगी सूखी
 
बन्द पलकों के अन्धियारों में

भटकते होगें वो कई अनाथ निश्छल प्रश्न

जो तुम्हारी आत्मा ने गीली आर्त ध्वनि में

पूछा होगा काल पुरुष से !

और वह मुंह फेर चुप रहा होगा !

चुप रहा होगा इस बात पर कि

तुम्हारे इस छोटे से हिस्से में उगा , फैला

आदमी का यह बसाव  

परिमार्जन और विकास की इतनी कबड्डियों के बाद भी

इतना विषण्ण ! इतना हीन ! कैसे ?? !!!

 

धर्म , दर्शन , विज्ञान और तकनीक की

संलग्न अनुशंसायें लिये फिरता यह जीव

भौतिकी से परा भौतिकी की सुर्तियां चुभलाता यह जीव

इतना कुत्सित ! इतना जघन्य ! कैसे ?? ! !

 

त्रास !

 

काल-पुरुष मौन होगा ! अनुत्तरित !

 

 

 

 

 

 

Saturday, August 11, 2012

काई

मन ,
जैसे काई हो ...
जम गया हो
समय की चिकनी फर्श पर
छितरा हुआ ....

Friday, July 6, 2012

“कालिंग”……..

नये वाले मोबाइल के भी
कान्टैक्ट में सेव हैं
कुछ पुराने,
बन्द पड़े , 
आऊट आफ़ सर्विस,
नम्बर  !

अपरिचित अन्धेरों और
असम्बद्ध सन्नाटॊं से त्रस्त
किसी रात
टेबल पर बैठा ,
कलम खुट खुट करता,
लैम्प की रोशनी पढता ,
मन
दिनों बाद
न जाने कब
मोबाइल पर चला जाता है
और
यह जानते हुये भी कि
इन नम्बरों पर अब फोन नहीं जाता ,
मर चुके हैं ये नम्बर ,
डायल कर देता है उन्हें !

स्क्रीन पर 
चिन्ह उभर आता है
“कालिंग”……..
और बिन्दुओं की एक रेखा 
जलती बुझती रहती है …

Saturday, April 7, 2012

फिर से प्यार ...


(यह समयान्तर में छ्प चुकी एक पुरानी कविता है)


चलो छॊड़ो जाने दो
अब वह बड़ा वाला प्रेम ,
वो सच्चा और गहरा वाला प्रेम ,
वो निर्मल वर्मा और अज्ञेय वाला प्रेम ,
वो इमली ब्रान्टॆ और लारेन्स वाला प्रेम ,
चलो छोड़ो , रहने भी दो
वह तो हो चुका अब हमसे ।

आओ चलो !
शाम को टहलते हुये
क़ाफी पीने चलते हैं ।
नेस्कफे में किनारे वाली बेन्च पर
आमने सामने बैठते हैं
लंका के अरोमा प्रोविजन से
आते वक्त खरीदी गयी
वनीला पेस्ट्री व चाकलॆट पास्ता के बाद
दो गरम गरम झाग भरी कापचीनो मंगाते हैं ।
आसपास बैठे
चूं चूं करते, परस्पर निमग्न
एकदम जोरदार व जबरदस्त प्रेम करनेवालों से
बिलकुल अलग
बहुत देर तक बिना किसी भाव के
अनुद्विग्न , शून्य
हम
एक दूसरे से
हल्की हल्की ढेर सारी बातें बतियाते हैं ।
बातें, साबुन के बड़े बड़े फुग्गों सी बातें
जो अपने आप में
एकदम पूरी होती हैं ,
कुछ देर तक मन के व्योम में
हौले हौले तैरती रहती हैं
और फिर पीछे अपने
सिवास हल्की सी नमी के
और कुछ नहीं छोड़ती  ! ! !

तो इस तरह बतियातें हैं ।

बतियानें में यदा कदा
एक दूसरे को देख भी लेते हैं
जैसे अनवरत वर्षों से
एक दूसरे को ही देख रहे हॊं
या जैसे
एक पेड़ दूसरे पेड़ को देखा करता है ----
चुपचाप ---बिना किसी भाव के
बस एक अनभिव्यक्त अन्तःप्रेरणा से ।


आओ चलो ! ज्यादा न सोचो !
न तुम अमृता प्रीतम हो सकती हो
और न मैं इमरोज़ .
सिर्फ किताबें पढ़ने से कुछ नहीं होता ।
देखॊ ! सद्य प्रसूता स्त्री सी जीर्ण ,
सिक्त व तुष्ट उदासी लिये इस पीली सांझ की
अलसायी हवा में
शान्त , गाढ़े हरे , कतारबद्ध खड़े
इन विशाल रहस्यमयी पेड़ों के लिये
शिशिर का सन्देश है ।
अगर मैं कवि होता
तो इस पर एक अच्छी कविता लिखता,
तुम्हें
इन रम्य वृन्तों पर खिले
प्रगल्भ रक्तिम पुष्प
और स्वयं को
तुम्हारे आसपास की
स्नेहिल हवा लिखता  ! !
लेकिन छोड़ो ! !
न मैं लारेन्स का पाल मारल हूं
न तुम मिरियम ।
चलो , अन्धेरा काफी हो गया है
अब नेस्कफे बन्द होगा ।