Thursday, January 27, 2011

अनुपस्थिति


ढलते……उदास….दिन !
खाली साझें……सन्नाटा !

तेज चलती….रूखी…हवाएं !
बन्द गलियारों में बिखरे
सूखॆ ,खड़खड़ाते पीले पत्ते !

कहीं ये तुम्हारी याद के
कुछ और नाम तो नहीं ?
! !
! !
! !
दिनभर सो कर उठा हूं मैं
चलूं कुछ काम करूं ………..!

जिन्दगी ऐसे तो नहीं चलती !