Wednesday, December 23, 2009

अभी तो .......


अभी तो व्यथा के श्रृंगों
का आयतन
वर्तनी की आकृतियॊं में नापता हूं ! ! !
भावना के पारावार में
खो जायेगें दुख भी जब
तुम्हारे स्मरण की विस्मृत मधुकरी तब
मन के वातायनॊं पर सजाउंगा !


खो चुके संसार के आर्द्र स्वप्नों को
अभी तो
संतप्त चेतना के ताप से भूंजता हूं ! ! !
उन्माद के संघनन में
झरेंगें जब पीत-पात स्वप्न भी तब
तुम्हारे अविरल नेह की रम्य बांसुरी धुन
हृदय तट के भाव चातकॊं को पिलाउगां ! ! !