Sunday, May 10, 2009

हम टूट गए........

हम टूट गये ।
टूट जाती है बीच से जैसे
सूखी लकड़ी ।

झिप गयी चमक
उल्लसित स्वप्नों की आभा से दीप्त
हमारे नयनों की ।

झर गये आह्लाद- सौरभ ,
विह्वल मन की मधु-तृषा प्रतानें
क्लांत हुयी ।

इसलिये
कि
कुछ तुममें था
जो मुझे तुम्हारे पास ले गया था ।
और
कुछ मुझमें था
जो तुम्हें मेरे पास लाया था ।

शायद इसलिये ही हम टूट गये…………..! ! !

काश !
मैं मुझमें ही कुछ खोज पाता
जो मुझे तुमसे संलग्न करता ।
काश !
तुम खुद में ही कुछ देख पाते
जो तुम्हें मेरा पता देता ।


हो सकता है ,
तब……….न टूटते हम……….!!!